ब्रीद: इन-टू द शैडोज़- वेब सीरीज- समीक्षा

ब्रीद: इन-टू द शैडोज़- वेब सीरीज- समीक्षा

अभिषेक बच्चन का अपने करियर के ग्राफ को चढ़ाने का एक और असफल प्रयास।


COVID-19 महामारी के दौरान लॉकडाउन के कारण विभिन्न चैनलों पर वेब श्रृंखलाएं लगातार आ रही हैं जिन पर लोगों का ध्यान ज्यादा जा रहा है। और यहाँ हमें अमेज़न द्वारा BREATHE का एक और सीजन मिलता है। यह अमेज़न प्राइम पर उपलब्ध है जिसमें 12 एपिसोड हैं। COVID-19 के कारण हाल ही में डबिंग और संपादन के कार्यक्रम में देरी के बाद इसे लॉन्च किया गया। यह भी सुनने में आया है कि अभिषेक बच्चन, अमिताभ बच्चन, जया बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन और उनके बच्चे को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है।
“ब्रीद: इन-टू द शैडो” को “ब्रीद” से 2 साल से अधिक के अंतराल के बाद जारी किया गया है। इसमें अभिषेक बच्चन मुख्य भूमिका में हैं। अन्य प्रमुख योगदानकर्ताओं में “काई पो चे” प्रसिद्धि वाले अमित साध, “मिशन मंगल” प्रसिद्धि वाली नित्या मेनन, “मिर्ज़्या” वाली सैयामी खेर और “लिपस्टिक अंडर माय बुर्का” वाली प्लाबिता बोरठाकुर हैं।
मयंक शर्मा द्वारा निर्देशित, जिन्होंने पहले BREATHE के पहले सीज़न का निर्देशन किया था, “ब्रीद: इन-टू द शैडो” का यह पहला सीज़न लगभग सभी मोर्चों पर सपाट है। हालांकि इसे क्राइम, ड्रामा, थ्रिलर के रूप में मार्केट किया गया है, लेकिन वास्तव में यह उसका पचास प्रतिशत भी नहीं है। स्क्रिप्ट बहुत लचर हैं। कई दृश्यों के लिए कोई औचित्य नहीं दिया गया। अधिकांश हिस्सा उबाऊ है और बिना किसी सामग्री के है। बहुत सी फिल्में और श्रृंखलाएं अब विभाजित व्यक्तित्वों( स्प्लिट पर्सनेलिटी) के आधार पर बनाई जा रही हैं। कुछ दिन पहले यह “रसभरी” आई थी और अब यह आई है।


इंस्पेक्टर कबीर सावंत के रूप में अमित साध, और आभा सभरवाल के रूप में निथ्या मेनन इस श्रृंखला की जान हैं। मेघना वर्मा के रूप में प्लाबिता बोरठाकुर दृश्यों में कुछ नयापन लाती है। बाकी सभी कलाकार बस कामचलाउ हैं। दस एपिसोड तक श्रृंखला की गति बहुत धीमी है। ऐसा लगता है कि श्रृंखला को आखिरी दो एपिसोडों में बिना किसी क्लाइमेक्स के अचानक ही समाप्त कर दिया गया है।
निर्देशक को सीज़न 2, जिसका बनना तय है, में शिकंजा कसने की आवश्यकता है क्योंकि सीज़न एक सस्पेंस के साथ समाप्त होता है। दृश्यों और कहानी की निरंतरता को बरकरार रखते हुए, दर्शकों को जागृत और स्क्रीन से जोड़े रखने के लिए ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता है।

इसे देखना समय की बर्बादी है।

रेटिंग: 5 में से 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *